नेल्सन मंडेला

By

ये बर्र-ए-आज़म की सारी बलाएँ
सुना है कि अब मुंतशिर हो रही हैं
फ़लक-बोस तहज़ीब के कैक्टस झोंपड़ों की रिवायात को डस रहे हैं
मगर
कम नहीं ये कि अपनी ज़मीं और अपनी फ़ज़ा में
सियह पैकरों की दो-धारी अना और आहन इरादों ने
अपने लिए अब नए तेवरों के उजाले तराशे
अँधेरी ज़मीनों से मेरे निकाले
ख़त-ए-उस्तुवा के घने जंगलों की अमल-दारियों में हैं दीपक जलाए
क़बीलों की हर बाहमी जंग को शाख़-ए-ज़ैतून के ज़मज़मे हैं सुनाए
दहकते हुए रेग-ज़ारों के नीचे
सियह ज़र के चश्मों को महमेज़ दी है
ये तहरीक ये इंक़लाब सारे
नेल्सन मंडेला
तुम्हारी रगों में नया ख़ूँ शब-ओ-रोज़ पहुँचा रहे हैं
तुम्हारी हथेली को सूरज में तब्दील करने लगे हैं
तुम्हारी नज़र में भरे मंज़रों की धनक बो रहे हैं
सलाख़ों के पीछे अकेले नहीं तुम
सियह बर्र-ए-आज़म तुम्हारी जिलौ में
नहीं
सारी दुनिया तुम्हारी जिलौ में

बबूल के दरख़्त से कहो

By

बबूल के दरख़्त से कहो
अभी मशाम-ए-जाँ में हर सिंघार की शगुफ़्तगी
बड़े ही इंहिमाक से बहार-पाश है यहाँ
जो मुड़ के देखता हूँ अध-जले गुलाब का बदन
शहादतों के रम्ज़ पर सिंघार भी लुटा गया
जो मुड़ के देखता हूँ फ़ाख़्ता का अहमरीं लहू
जबीन-ए-जौर की सभी रऊनतें मिटा गया
मिरे ख़िलाफ़ साज़िशों का ये मुहीब सिलसिला
मिरी अना के बाँकपन में दफ़अ'तन समा गया
चिनार के दरख़्त से है नारियल के पेड़ तक
रवाँ दवाँ हमारी ख़ुशबुओं का शोख़ सिलसिला
कबूतरों के ग़ोल की फबन हिरन की चौकड़ी
हवा के दोश-ए-मर्ग़ेज़ार को दुल्हन बना गई
अभी मिरी ज़मीन की फ़ज़ाएँ सुब्ह-ए-फ़ाम हैं
धुएँ के नाग से कहो
बड़ी ही सख़्त-जान हैं हमारी वादियों में रंग-ओ-नूर की लताफ़तें
समुंदरों की सीपियों से पोखरों की घोंंघियों ने
बैअतों के वास्ते सिपुर्द कब किया है ग़ैरतों के लाला-ज़ार को
अभी हिसार-ए-संग में कँवल के फूल हैं खिले
ज़बान-ए-रेग-ए-सुर्ख़ से कहो
हमारे पाँव जल गए तो क्या हुआ
बहार-ए-सब्ज़ के लिए ज़मीं तो आज मिल गई

एक रियाज़त ये भी

By

वही दरिया किनारे
रोज़ अपनी बाँस की बंसी लिए बैठा हुआ वो शख़्स
कितनी बे-नियाज़ी से
हर इक लम्हे को अपनी ख़ुश-दिली से दाद देता है
कि जिस के रू-ए-रौशन पर क़नाअत मोरछल झलती हुई मोती लुटाती है
सहर-ता-शाम लहरों से वो अपनी बात कहता है
हवाओं की मधुर सरगोशियों पर खिलखिलाता है
परिंदों के सुहाने चहचहों पर झूम उठता है
किसी आवाज़ की आहट पे कजरी गुनगुनाता है
मगर उस की नज़र डोरी की हर जुम्बिश पे रहती है
कोई मछली फँसी तो इस के सीने में
कई रंगों की सुब्हें दफ़अतन मरपाश होती हैं
मगर ऐसा भी होता है
किसी दिन हाथ ख़ाली अपने घर वो लौट जाता है
कई मासूम आँखें जब सवाली बन के उठती हैं
वही मानूस सी इक मुस्कुराहट इस के चेहरे की
किसी नन्ही सी मछली की तरह इक जस्त लेती है
शिकस्ता झोंपड़े में एक बिजली कौंद जाती है

इम्बिसात-ए-अज़ली

By

ऊँची नीची दूब पर लहराता हुआ काला नाग
झील के बाँहों से फूटता हुआ ज्वालामुखी
रंग-बिरंगे पंछी को पंजों में दबाए हुए बाज़
चट्टानों के पीछे मुर्दा जानवर की साफ़-ओ-शफ़्फ़ाफ़ ठिठुरी पर
भागते हुए सियाह चूहों की क़तार
चाँदनी रात में मछली पर झपटता हुआ ऊद-बिलाव
पतिंगे को पकड़ने के लिए लपकती हुई छिपकिली
सुरमई शाम के मल्गजे आकाश पर चढ़ती हुई आँधी
ये सारे मनाज़िर महा-नगर के एक कमरे में
वीडियो पर देख रहा हूँ
और
अहद-ए-हजर के अपने बुज़ुर्गों के फ़ितरी ख़ौफ़-ओ-तजस्सुस से भरे हुए
इम्बिसात को अपनी रगों से
सरगोशियाँ करते हुए पा रहा हूँ