KHud-kushi

Shayari By

rahimullah hua achchha to us ne
ye dekha ho chuki hai partition

gae kuchh bhag aur kuchh mar chuke hain
na neta-singh baqi hai na bhishan [...]

kabhi kabhi

Shayari By

kabhi kabhi mere dil mein khayal aata hai
ki zindagi teri zulfon ki narm chhanw mein

guzarne pati to shadab ho bhi sakti thi
ye tirgi jo meri zist ka muqaddar hai [...]

अलग होने पे आमादा हुआ है

अलग होने पे आमादा हुआ है
यक़ीनन दुख बहुत ज़ियादा हुआ है

बिछड़ कर बाग़ से भँवरे ने पूछा
ये गुल क्यों सूख कर काँटा हुआ है

परिंदे को ख़बर पहुँचाऊँ कैसे
शजर में जाल इक डाला हुआ है

मैं केवल रूह छू पाऊँगा उस की
यही शुरूआ'त में वा'दा हुआ है

महज़ क़स्में वो खाए जा रहा है
बदन पर झूट को लादा हुआ है

मोहब्बत का यही हासिल रहा है
मोहब्बत करके पछतावा हुआ है
Om Awasthi

Don't have an account? Sign up

Forgot your password?

Error message here!

Error message here!

Hide Error message here!

Error message here!

OR
OR

Lost your password? Please enter your email address. You will receive a link to create a new password.

Error message here!

Back to log-in

Close